ख़ूबसूरती में किसी बॉलीवुड एक्ट्रेस से कम नहीं हैं सहवाग की बीवी, लवस्टोरी भी हैं बेहद फिल्मी

क्रिकेट के मैदान पर शायद ही कोई ऐसा गेंदबाज होगा जो सहवाग से नहीं डरता हो. मुल्तान के सुल्तान वीरेंद्र सहवाग अपने निजी जीवन में जितने आक्रामक थे, उतने ही मैदान पर भी. मैदान पर वीरू का धमाकेदार अंदाज देखकर शायद ही कोई कहेगा कि वीरू को प्यार हो सकता है,

प्यार की पिच पर वीरू भी बोल्ड हो गए थे. वीरू से प्यार करने वाली लड़की कोई और नहीं बल्कि उसकी दोस्त और रिश्तेदार थी. आइए जानते हैं वीरू की प्रेम कहानी फिल्मों जैसी है.वीरेंद्र सहवाग और उनकी पत्नी आरती एक दूसरे को शादी के 17 साल पहेले से जानते हैं.

वीरू और आरती अच्छे दोस्त थे, लेकिन दोनों ने कभी किसी को प्रपोज नहीं किया था. वैसे आरती भी सहवाग की रिश्तेदारी में आती है. सहवाग आरती को सात साल की उम्र से जानते हैं.दरअसल आरती और सहवाग एक-दूसरे को बचपन से जानते हैं.

ये दोस्ती कब प्यार में बदल गई, कोई नहीं जानता. लेकिन कहानी में टर्निंग पॉइंट यह था कि आरती की मौसी की शादी सहवाग के चचेरे भाई से हुई थी, जिसके मुताबिक दोनों परिवारों ने शादी के बंधन में बंध गए. इसी रिश्तेदारी से दोनों में दोस्ती हुई, जो बाद में प्यार में बदल गई.

वीरू और आरती रोज मिलते हैं और दोस्तों की तरह बातें करते हैं. 2002 में सहवाग ने मजाक में आरती से शादी के लिए कहा, जिसका आरती ने बेहद गंभीरता से जवाब देते हुए शादी के लिए हां कर दी. यह बात खुद वीरू ने एक इंटरव्यू के दौरान कही थी.वीरू शादी के लिए तैयार थे.

जब आरती भी तैयार थी. लेकिन सहवाग को अपने परिवार को समझाने में काफी वक्त लगा. एक इंटरव्यू में सहवाग ने कहा, ‘हमने अपने परिवार में किसी करीबी रिश्तेदार से शादी नहीं की है. यहां तक कि माता-पिता भी हमारी शादी के लिए तैयार नहीं थे. कुछ समय लगा, लेकिन वह शादी के लिए राजी हो गया.

उनके लिए इस शादी के लिए राजी होना बहुत मुश्किल था.आरती ने कहा कि हमारे घर में ऐसे कई लोग थे जो इस शादी से खुश नहीं थे. ऐसा नहीं था कि वे मेरे परिवार के थे, वीरू के कई परिवार भी इस शादी से खफा थे. लेकिन परिवार ने वीरू और आरती का रिश्ता छोड़ दिया

उनकी शादी अप्रैल 2004 में हुई थी और उनके दो बेटे आर्यवीर और वेदांत थे. साथ ही वह अपने दोनों बेटों पर ध्यान देते हैं, वहीं सहवाग का मानना है कि आरती को सादगी पसंद है इसलिए वह प्रतिभा से दूर रहते हैं.

वीरेंद्र सहवाग को हम मुल्तान के सुल्तान के नवाब वीरू के नाम से भी जानते हैं. लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि सहवाग को ना तेंदुलकर भी कहा जाता है. सहवाग को क्रिकेट के अलावा टेनिस, बैडमिंटन, टेबल टेनिस खेलना पसंद है. सहवाग की संगीत में एक अलग तरह की रुचि है.

वह किशोर कुमार, मोहम्मद रफ़ी, आशा भोसले के गाने सुनना पसंद करते हैं.जब सहवाग का दिन अच्छा चल रहा था, उन्होंने शोएब अख्तर और ग्लेन मैक्ग्रा जैसे महान बल्लेबाजों को परेशान किया था.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में किसी बल्लेबाज द्वारा सबसे तेज तिहरे शतक में 319 रन. इसके लिए उन्होंने सिर्फ 278 गेंदें खेलीं. वह 207 गेंदों में सबसे तेज 250 रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी भी हैं. सहवाग एक टेस्ट मैच में तिहरा शतक लगाने वाले एकमात्र भारतीय हैं. वह ब्रैडमैन और लारा के बाद टेस्ट क्रिकेट में दो तिहरे शतक लगाने वाले दुनिया के तीसरे बल्लेबाज हैं.

सहवाग के नाम टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग विकेट के लिए सबसे ज्यादा पार्टनरशिप करने का रिकॉर्ड भी है. वीरू ने रिकॉर्ड बनाने के लिए राहुल द्रविड़ के साथ 410 रन की साझेदारी की थी. वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक स्कोर 219 है, जो एक विश्व रिकॉर्ड है. उन्होंने सचिन के 201 रन के रिकॉर्ड को तोड़ा है.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकारियों के आधार पर बनाई गई है. BollyTic अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!